शुक्रवार, 13 फ़रवरी 2009

यह प्यार नहीं बीमारी है...















































3 टिप्‍पणियां:

  1. सही !

    प्यार करो लेकिन

    सारी मानवता से करो, पर्यावरण से करो, समझदारी से करो, लुप्त होते जीवों से करो, जी-ज्जन से परिश्रम करने वालों (किन्तु आधे पेट खाने वालों) से करो, उर्जा के संरक्षण से करो .....

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रेम जब समर्पण की जगह जनून बन जाए तो यह बीमारी ही बन जाता है। अच्छी विचारणीय पोस्ट है।

    उत्तर देंहटाएं

KAZH आपके बहुमूल्य टिप्पणियों का स्वागत करता है...
हिंदी में लिखने के लिए कृपया यहाँ क्लिक करें.